Kumkum Bhagya Serial in Hindi | Kumkum Bhagya Story, Cast & Episodes

Kumkum Bhagya : कुमकुम भाग्य एक भारतीय हिन्दी धारावाहिक है, जो 15 अप्रैल 2014 से ज़ी टीवी पर प्रारम्भ हुआ। ये धारावाहिक हर सोमवार से शुक्रवार रात 9 बजे प्रसारित होता है।

इस धारावाहिक का निर्माण एकता कपूर और शोभा कपूर ने अपनी कंपनी बालाजी टेलीफिल्म्स के द्वारा किया है।

इस धारावाहिक का निर्देशन मुजम्मिल देसाई और शरद यादव ने किया है। इस धारावाहिक में शब्बीर अहलूवालिया और सृति झा मुख्य किरदार की भुमिका निभा रहे है।

kumkum bhagya

Kumkum Bhagya : Concept of the Story

यह कहानी एक टीचर प्रज्ञा अरोड़ा (सृति झा) और अभिषेक मेहरा (शब्बीर अहलुवालिया) के ईर्द-गिर्द घूमती है।

यह कहानी मुक्ख रूप से कुमकुम भाग्य नाम के एक शादी के स्थान पर आधारित है। इस कहानी में मुक्ख रूप से प्रज्ञा( सृति झा) को दर्शाया गया हैं जिसकी शादी अभिषेक (शब्बीर अहलूवालिया) से होती है।

अभिषेक अपनी बहन आलिया (शिखा सिंघस) को  कहने पर ही प्रज्ञा से शादी करता है। लेकिन अभिषेक के लगता है इन की वो तनु से प्यार करता है लेकिन वाकई में  वह प्रज्ञा से प्यार करता है। कुछ समय बाद आलिया बुलबुल का अपहरण करने का निर्णय लेती हैं जोकि बुलबुल प्रज्ञा की बहन हैं।

जिसका कारन हैं की वो पूरब से सदी न कर  पाए और पूरब उसका हो  जाये। लेकिन अपहरण करने वाला बुलबुल के जगह प्रज्ञा को ले जाता है। प्रज्ञा को बचाने के लिए अभि उसके पीछे लग जाता है।

इसके बाद वो लोग प्रज्ञा को मारने वाले होते हैं और प्रज्ञा को बचाने के लिए अभि उसके सामने आ जाता है। अभि को गोली लग जाती है और वो दोनों खाई में गिर जाते हैं।

इसके बाद प्रज्ञा अभि को दूर ले जाकर उसका इलाज करती है। उसके बाद प्रज्ञा अपनी दिल की बात अभि को बताती है। अभि निर्णय नहीं ले पाता है। इसके बाद वह लोग घर में आ जाते हैं और अपहरण कर्ता पकड़ा जाता है।

प्रज्ञा बार बार अपने सवाल का जवाब लेने की कोशिश करती है। लेकिन अभि उसे नहीं बता बता पाता। एक रात अभि प्रज्ञा को अपनी सारी  दिल की बात बताने का सोचता है। लेकिन तभी तनु प्रज्ञा को सारी बात बताते कहती है कि वह अभि के बच्चे की माँ बनने वाली है।

इसके बाद जब प्रज्ञा घर आती है तो अभि उससे अपने दिल की बात कहने की कोशिश करता है, लेकिन प्रज्ञा तो पहले से हे ही क्रोध में थी उसी क्रोध कह देती है कि वह नाटक कर रही थी उसे अभि से बिलकुल भी प्यार नहीं है। इसके बाद अभि भी क्रोध में आ जाता है और शराब पीने लग जाता है।

प्रज्ञा अपने आप को घर से बाहर और तनु को घर के अंदर लाने का प्रयास करती है। इसमें वह और तनु कई प्रकार का प्लान बनाते हैं  एक में तनु प्रज्ञा को अभि को मिले एक करोड़ रुपये चुराने को कहती है। प्रज्ञा उसे चुरा लेती है और तनु प्रज्ञा को पकड़ा देती है। लेकिन तभी तनु के जाँच का परिणाम आता है। लेकिन उसमें नाम में अभि और प्रज्ञा का रहता है। जिससे सभी को लगता है कि प्रज्ञा माँ बनने वाली है।

अभिषेक के जन्मदिन के समारोह पर दादी बच्चो वाली कहानिया सुना रही थी । तभी प्रज्ञा ने आकर कहा  मैं अपना बच्चा गिरा दिया।  इसपर सभी लोग दंग रह जाते और उसके बाद प्रज्ञा से बहुत सारे  प्रश्न पूछने लगते हैं।  तभी अभी आकर खुलासा करते हैं की प्रज्ञा माँ नहीं बनाने वाली थी ये मैंने हे उससे कहने के लिए खा था।

उसके बाद दूसरे ही दिन दादी हॉस्पिटल में जाकर असली पता लगाती हैं परन्तु अभी और प्रज्ञा के वजश से वो लोग असली रिपोर्ट नहीं देख पाती है। लेकिन घर पर आने के बाद उन्हें पता चलता है कि तनु माँ बनने वाली है। सभी को इस बात पर आश्चर्य होता है।इसके बाद तनु के पिता आकर कहते हैं कि इसके बच्चे का बाप अभि है।

यह बात जानकर अभि की दादी उसे घर से निकाल देती है और प्रज्ञा को भी कहती है। लेकिन अभि उसे घर पर दादी की देखभाल के लिए रहने को कहता है। प्रज्ञा अभि और तनु की शादी के लिए दादी को मना लेती है।

कुछ दिन बाद प्रज्ञा तनु की बात सुनती है की जो बच्चा उसके पेट में है  वो अभी का नहीं किसी और का हैं। ये सुन कर प्रज्ञा बेहोश हो जाती हैं।

प्रज्ञा को देख तनु अपने कमरे से जाती है। उसे इस बारे में नहीं पता होता की उसने बात सुन लिया है। इसके बाद जब प्रज्ञा को होश आता है वह इस बात को बताने के लिए अभि के कार्यालय में जाती है।

जहाँ वह आलिया की बात सुनती है कि उसे तनु का सच पता है और वह इस बात को प्रमाणित कर देगी कि यह अभि का बच्चा है। वह अभि की सारी जायदाद लेकर उसे बर्बाद कर देना चाहती है और उसी ने एक कार्यक्रम के दौरान अभि पर पत्तर से चोटिल किया था।

प्रज्ञा इसी सोच में रहती हैं की अब क्या करे अभी को कैसे इस मुसीबत से बचाये यही सोचते सोचते उसके गाड़ी का दुर्घटना हो जाती  हैं।  दो लोग उसे बचा के लेकर हॉस्पिटल में लेकर जाते हैं। सबको पता चलता हैं की प्रज्ञा का दुर्घटना हो गया परन्तु किसी को हॉस्पिटल नहीं पता होता हैं।  और कुछ दिन बाद उसे मारा घोसित कर देते  हैं।

Kumkum bhagya : After one month

एक माह बाद अचानक प्रज्ञा आती है। बाद में यह पता चलता है कि दादी और प्रज्ञा मिल कर यह योजना बनाए रहते हैं। साथ ही अस्पताल से प्रज्ञा को वापस लाने और उसे इस योजना में लाने और मृत घोषित करने के पीछे भी दादी का ही हाथ होता है। आलिया की असलियत सभी को दिखाने में अंत में प्रज्ञा सफल हो जाती है। इसके साथ साथ राज को भी पता चल जाता है कि उसके सारी समस्या की जड़ और कोई नहीं, बल्कि उसकी पत्नी मिताली है।

इसके बाद प्रज्ञा को तनु और निखिल के बीच का रिश्ता पता चलता है, और वो इसे सभी के सामने लाने की कोशिश करती है। लेकिन इसी बीच तनु दुर्घटना का शिकार हो जाती है, जिससे गर्भपात हो जाता है। जिसका आरोप प्रज्ञा पर ही लग जाता है। पर अंत में प्रज्ञा सच्चाई सामने ले ही आती है और अभि का विश्वास फिर से पा लेती है।

दोनों एक दूसरे से लोनावला में प्यार का इकरार करते हैं। प्यार का इकरार करने के बाद अभि एक कार दुर्घटना का शिकार बन जाता है। और अपने पिछले ढाई साल में बिता हर चीज (प्रज्ञा को भी) भूल जाता है। प्रज्ञा उसे छोड़ कर चले जाती है, लेकिन तलाक नहीं लेती है।

Kumkum Bhagya : After 2 month

दो माह बाद प्रज्ञा अभी की कार्यालय जॉइन करती हैं।  फिर धीरे धीरे वो दोनों एक अच्छे दोस्त बन जाते है।  अभी प्रज्ञा को अभी निजी सहायक बना लेता हैं।  अभी के याद्दाश खोने का फ़ायदा उठा कर प्रज्ञा को अभी से हमेसा दूर करने के लिए तनु और अभी का शादी करवाना चाहती हैं।

प्रज्ञा अभी का याद्दाश लेन की कोसिस करती और अभी याद्दाश थोड़ा थोड़ा आने लगता है।  और फिर एक दुसरे से लव करने लगते हैं।  तभी तनु की माँ कैंशर का बहाना करके अभी को तनु के सदी लिए मना लेता हैं।

प्रज्ञा अभी से आखरी बार मिलने आती हैं तभी निखिल उसका अपहरण कर के ले जाता है। जब सरला अभि को बोलती है कि प्रज्ञा का अपहरण हो गया है, तो अभि शादी बीच में छोड़ कर प्रज्ञा को बचाने चले जाता है।

जंगल में काफी भाग दौड़ करने के बाद अभि प्रज्ञा को बचा लेता है, दोनों जंगल से बाहर आते हैं तो अभि का कार से टक्कर हो जाता है और उसे सारी पुरानी बातें याद आ जाती है। दोनों फिर प्रज्ञा के पिता से मिलते हैं, उन्हें पता चलता है कि प्रज्ञा की दो बहनें हैं।

निखिल के गुंडों से भागते हुए प्रज्ञा को गोली लग जाती है, और वो बांध में गिर जाती है। अभि उसे ढूँढने की बहुत कोशिश करता है, पर उसे असफलता ही हाथ लगती है।

अभि थक हारकर जब घर आता है, तो सरला उससे प्रज्ञा के बारे में पूछती है, लेकिन तनु और आलिया उसे बाहर कर देते हैं। अभि उन दोनों को रोक देता है और बताता है कि उसकी याददाश्त वापस आ गई है।

Kumkum bhagya : After 8 year

अभि और प्रज्ञा दोनों अलग हो चुके हैं। आलिया अब अभि के व्यापार को संभालती है और वहीं आलिया और तनु की दोस्ती भी टूट जाती है। पूरब और दिशा का सनी नाम का बच्चा होता है। अभि की शादी तनु से हो जाती है और वहीं प्रज्ञा लंदन में अपनी बेटी कियारा के साथ रहती है।

वो किंग सिंह (मिशाल रहेजा) की मैनेजर के रूप में काम करती है, कियारा उसे अपना पिता सोचती है, वहीं वो भी उसे अपनी बेटी की तरह ही प्यार करता है। अपने काम से प्रज्ञा दिल्ली में किंग और कियारा के साथ आती है, उसे ये पता नहीं होता है कि अभि अब दिल्ली में रह रहा है।

दिल्ली में प्रज्ञा और अभिषेक आमने-सामने मिलते हैं, अभि उसे ही शादी के टूटने का दोषी बताता है। दिशा और पूरब को एहसास होता है कि कियारा अभिषेक और प्रज्ञा की बेटी है, लेकिन वे लोग ये बात अभिषेक से छुपाते हैं।

Kumkum Bhagya Cast

  • सृति झा— प्रज्ञा अरोड़ा / प्रज्ञा अभिषेक मेहरा
  • शब्बीर अहलूवालिया — अभिषेक प्रेम मेहरा / अभि
  • मुग्धा चापेकर — प्राची अभिषेक मेहरा
  • पूजा बैनर्जी — रिया अभिषेक मेहरा
  • कृष्ण कौल — रणबीर कोहली

Supportive Cast

  • अर्जित तनेजा / विन राणा — पूरब खन्ना, अभिषेक का दोस्त और दिशा का पति
  • आलिया पूरब खन्ना – अभिषेक की बहन
  • रुचि सवर्ण — दिशा खन्ना, पूरब की दूसरी पत्नी
  • मृणल ठाकुर / काजल श्रीवास्तव — बुलबुल अरोरा, पूरब की पहली पत्नी
  • मिशाल रहेजा — किंग सिंह
  • फैज़ल राशिद – सुरेश
  • सुप्रिया शुक्ला – सरला अरोड़ा, बुलबुल और प्रज्ञा की माँ
  • अंकित मोहन – आकाश मेहरा
  • अदिति राठोड़ – रचना आकाश मेहरा
  • अमित धवन / अनुराग शर्मा – राज मेहता
  • समीक्षा भटनागर / स्वाति आनंद – मिताली राज मेहरा
  • मधु राजा – दलीजीत कौर अरोरा
  • दलजीत सौंध – अभी और आलिया की दादी
  • मधुरिमा तुली / लीना जुमानी – तनु
  • नील मोटवानी / सुस्तम अरनब सिंह मुखर्जी – श्री कपूर
  • निखिल आर्य – निखिल सूद
  • सकलाइन राही खान – रॉकी
  • शुभम गर्ग – पूरब का मित्र
  • शिवानी सोपुरी – पम्मी मेहरा
  • नेहा बम – पूरब की रिश्तेदार
  • बॉबी खन्ना – तनु के पिता
  • रोमा नवानी – तनु की माँ
  • नविना बोले – अभि की प्रशंसक
  • चारु मेहरा – पूर्वी

Producer and director of the serial

कुमकुम भाग्य एक प्रेम कहानी है, जिसका निर्माण एकता कपूर और शोभा कपूर ने किया है। एकता कपूर को लगता है कि क से शुरू होने वाले धारावाहिक के नाम उसके लिए भाग्यशाली होते हैं। इस लिए इस धारावाहिक का नाम भी क से अर्थात कुमकुम भाग्य रखा गय।

इसके बारे में बताते हुए ज़ी टीवी के कार्यक्रम के मुख्य, नमित शर्मा कहते हैं। कि- “यह धारावाहिक एक दूसरे अच्छे धारावाहिक के जगह पर दिखाया जाएगा, इससे आप समझ सकते हैं की हमें इस पर कितना भरोसा है।

यह धारावाहिक ज़ी टीवी के 4 वर्षों से चल रहे एक बहुत ही विशेष धारावाहिक पवित्र रिश्ता का जगह लेगा। जो भारतीय दर्शकों का सबसे अधिक चहेता रहा है। रात को खाना खाते समय यह मानव और अर्चना की जोड़ी लाखों लोगों को बहुत पसंद है।

कुमकुम भाग्य भी दूसरा सबसे अच्छी कहानी पर आधारित एक पंजाबी परिवार की है जो मुंबई में रहता है। जिसमें एक माँ अपनी दोनों बच्चियों के लिए एक आदर्श रिश्ता खोजते रहती है। एकता ने इसे एक सुन्दर प्रेम को नाट्य रूप दिया है जो अन्य रोज रोज के सास बहू के कहानी से बिलकुल अलग है।

Finally Conclusion

यह कहानी एक टीचर प्रज्ञा अरोड़ा (सृष्टि झा) और अभिषेक मेहरा (शब्बीर अहलुवालिया) के ईर्द-गिर्द घूमती है। शब्बीर अहलुवालिया एक रॉक स्टार हैं। प्रज्ञा अरोड़ा की मां सरला अरोड़ा (सुप्रिया शुक्ला) एक मैरिज हॉल चलाती हैं इनकी दो बेटियां है दूसरी बेटी बुलबुल अरोड़ा (मृणाल ठाकुर) है।

बुलबुल अरोड़ा एक कंपनी में नौकरी करती है लेकिन अपने बॉस पूरब खन्ना (विन राणा) को पसंद नहीं करती। इस सीरियल में दोनो बहनों की अलग-अलग जिंदगी को दिखाया गया है।

दोनो बहनो की उम्मीदें, सपने और ख्वाहिशें अलग-अलग हैं। इसके अलावा सीरियल में प्रज्ञा, बुलबुल और सुरेश के लव ट्रांयगल को भी दिखाया गया है। प्रज्ञा जहां सुरेश से प्यार करती है वहीं सुरेश के दिल में बुलबुल के लिए प्यार की भावनाएं बहती है।

यह एक अच्छा धारावाहिक हैं आप सब भी इसको देखे और इंजॉय करिये।

Read More :-

Sharing Is Caring:

Leave a Comment